21/09/2022 परिवर्तन का शंंखनाद मनीष सपरा

आज डेंगू बीमारी से बचाव,सावधानियां, इलाज आदि के विषय पर,क्लीन&ग्रीन काशीपुर के प्रदेशाध्यक्ष विक्की राजकुमार सौदा ने कहा कि डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी के दौरान हजारों मृत्यु प्रतिवर्ष हो जाती है,सभी क्षेत्र वासियों से निवेदन करना है कि अपनें घरों में व आसपास गंदगी व पानी न इकट्ठा होने दें,एडीज मच्छर साफ पानी में भी पैदा हो जाता है,कृपया साफ सफाई पर विशेष ध्यान दें,क्योंकि एक एनाफिलीज मच्छर भी है,जो मलेरिया फैलाता है।

वहीं संस्था द्वारा कुछ बचाव जानकारी मनीष सपरा प्रदेश उपाध्यक्ष क्लीन&ग्रीन काशीपुर द्वारा ,स्वास्थ्य सलाहकारों से जुटाकर प्रेषित की गई है,जिसका विवरण इस प्रकार है

डेंगू होने के कारण और उससे बचने के आसान उपाय
अपने आसपास की जगहों को साफ करके रखने से आप मच्छरों को सरलता से दूर रख सकते हैं। किसी जगह पर रुके हुए पानी में मच्छर पनप सकते हैं और इसी से डेंगू भी फैल सकता है। जिन बर्तनों का लंबे समय तक इस्तेमाल नहीं होना हो उनमें रखे हुए पानी को नियमित रूप से बदलते रहें । गमलों के पानी को हर हफ्ते बदलते रहें
बुखार के लिए सिर्फ पेरासीटामाल की गोली लें।
एडीज मच्छर के काटने पर होने बीमारी डेंगू महामारी की तरह फैलता है। जो पहले तो सामान्य बुखार की तरह ही लगता है मगर इसका प्रभाव शरीर पर बहुत खरतरनाक से होता है। अगर इसका इलाज सही तरह से नहीं किया गया तो मौत भी हो सकती है। डेंगू के एडीज मच्छर दिन में काटते हैं, इसलिए दिन के समय भी मच्छर से खुद को बचाना जरूरी होता है।
डेंगू मलेरिया की तरह मच्छर के काटने से होता है। डेंगू का वायरस एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। डेंगू का बुखार ज्यादा से ज्यादा दो हफ्ते तक रहता है। इस रोग का पनपना जून के महीने से शुरू होता है और मॉनसून के महीने में अपना चरम प्रकोप दिखाना शुरू करता है।
बुखार आने की स्थिति में डॉक्टर की सलाह पर रक्त की जाँच कराए।
घर में जब आप सोने के लिए जाते हैं ऐसे में ध्यान से मच्छरदानी का इस्तेमाल करें अथवा मच्छरों से बचने का उपाय करें। इस से डेंगू वाले मच्छर आपको काट नहीं पाएगे।
घर में व बाहर एकत्रित पानी को तुरंत ढोलकर पानी की टंकी व बर्तन सुखा लें।
30 मिनट तक घर में कपूर जला कर रखें और उसे जलाते वक़्त सभी खिड़कियां और दरवाजे बंद कर दे। इससे डेंगू के मच्छर मर जाएंगे जो आपके घर के कोनों में छुपे होंगे।
स्वास्थ्य कार्यकर्ता आने पर सहयोग करें, ताकि वह लार्वा रोधी कार्य पायरेथम तथा टेमीफॉस का स्प्रे कर सकें।
घर के खिड़कियों और दरवाजे पर तुलसी का पौधा लगाए। इस कारण मच्छर आपके घर में नहीं घुसेंगे।
घर में कूलर, गमले, छत, पुराने टायर, टूटे -फूटे बर्तन में पानी जमा ना होने दें।
आस पास की सफाई पर ध्यान देना चाहिए। डेंगू के मच्छर दिन के समय काटते है।
पूरी बाँह के कपड़े पहने।
बुखार के लिए सिर्फ पेरासीटामाल की गोली लें।
अगर आपकी तबियत 10 दिन से ख़राब है या फिर आपको डेंगू के लक्षण नज़र आ रहे है तो आप तुरंत इसका इलाज़ कराए। साथ ही इन सरल उपाय को अपनी जीवन में अपना कर डेंगू से खुद को बचाए।
डेंगू के मामले में, 104 फारेनहाइट तक तेज बुखार के साथ गंभीर सिरदर्द, आंखों के पीछे, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द हो सकता है।
कुछ लोगों को उल्टी, ग्रंथियां में सूजन और त्वचा पर लाल चकत्ते हो जाते हैं।
संक्रमण बढ़ने के साथ सांस लेने में तकलीफ, मसूड़ों या नाक से खून आने, शौच से खून आने जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।
डॉक्टर्स कहते हैं कि अगर आपको इस तरह के लक्षणों का अनुभव हो रहा है तो तुरंत किसी डॉक्टर से मिलें, ये डेंगू का संकेत मानी जाती हैं। समय पर इलाज मिलने से लक्षणों को गंभीर रूप लेने से बचाया जा सकता है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.